Thursday, September 29, 2022
Tel: 9990486338
Home Latest News रिश्तों में दरार क्यों? जेलर ए. के. सिंह की ये किताब... जो...

रिश्तों में दरार क्यों? जेलर ए. के. सिंह की ये किताब… जो बदल सकती है आपकी जिंदगी!

खबर4इंडिया के एडिटर ए. के. शुक्ला को अपनी लिखी किताब ‘रिश्तों में दरार क्यों?’ भेट करते गौतमबुद्धनगर जिला कारागार के जेलर ए. के. सिंह

अक्सर सांसारिक मोह-माया के वसीभूत होकर इंसान तमाम गलतियां करता चला जाता है लेकिन कभी भी उसे अपनी गलती का एहसास नहीं होता। अगर कोई ऐसे इंसान को कुछ वैदिक, वैचारिक अथवा ज्ञान की बातें बताकर उसकी जिम्मेदारियों का एहसास कराये तो वह शख्स उस गलतियां करने वाले का बैठ-बिठाए शत्रु बन जाता है। हालांकि, कुछ ऐसे भी होते हैं जिन्हें अपनी गलती का एहसास हो जाता है और वह अपनी गलतियां सुधार लेता है लेकिन कभी कभी इतनी देरी हो जाती है है गलतियां सुधारी नहीं जा सकती।

 

निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय, बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय।

 

अर्थ : जो हमारी निंदा करता है, उसे अपने अधिक से अधिक पास ही रखना चाहिए। वह तो बिना साबुन और पानी के हमारी कमियां बता कर हमारे स्वभाव को साफ़ करता है।

कुछ उक्त दोहे की पंक्तियों पर आधारित है गौतमबुद्धनगर जिला कारागार के कारापाल ए.के. सिंह द्वारा लिखी गई किताब ‘रिश्तों में दरार क्यों?’ किताब में ज्यादा कुछ नहीं है और न ही कुछ हमारे समाज से अलग लिखी गई हैं। बल्कि, हमारे समाज, हमारे घर, हमारे परिवार, हमारे हित-मित्र, नात-रिश्तेदारों को लेकर ही लिखा गया है। खासकर किताब का शीर्षक ‘रिश्तों में दरार क्यों?’ से आप इस बात अंदाजा लगा सकते हैं कि किताब कैसी होगी।

बिल्कुल सही अंदाजा लगा रहे हैं आप! किताब आपको ही कटघरे में खड़ी करनेवाली है और आप पर ही सवाल उठाएगी। सवाल आपकी परिवार के प्रति जिम्मेदारियों को लेकर, समाज के प्रति जिम्मेदारियों को लेकर, आपके सोचने समझने की क्षमता को लेकर, आपकी भाषा व शैली को लेकर। कुल मिलाकर अगर आप किसी की तरफ उंगली दिखातें हैं तो 4 उंगली तो आपकी ही तरफ रहती है जो आप पर ही सवाल खड़े करती है। यानि इस किताब को आप तभी पूरी सिद्दत से पढ़ सकते हैं जब आप अपनी निंदा से खबरायें नहीं बल्कि निंदा करनेवाले को अपने पास रखें ताकि आपकी कमियां वह आपको बताता जाए और आप उसे सुधारते जाएं। अपने निंदक को शत्रु की तरह नहीं बल्कि अपना मित्र व गुरू समझे। साथ में इस बात भी ध्यान आपको रखना होगा कि जो आपकी निंदा कर रहा है उसके अंदर की कमियां आप में न आए, बिल्कुल ठीक वैसे, जैसे-

 

जो रहीम उत्तम प्रकृति, का करि सकत कुसंग। चंदन विष व्यापत नहीं, लपटे रहत भुजंग॥

 

आप निंदक को अपने पास रखें सिर्फ खुद को शुद्ध और खरा करने के लिए। उसके गलत आचरण आप पर न पड़ें बिल्कुल वैसे जैसे चंदन के वृक्ष पर जहीरीलें सांप लिपटे रहते हैं लेकिन वह अपनी शीलतना नहीं खोता। इसी तरह हमारे आपके जीवन में बहुत से ऐसे मौके आते हैं जब हम पर कुविचार यानि सामाजिक जहर का असर पड़ने लगता है और हम अपनों से दूर होते चले जाते हैं।

इन्ही सम्बन्धों पर आधारित है जेलर ए.के. सिंह द्वारा लिखी गई ये पुस्तक। अगर आप पूरी सिद्दत से एक बार पुस्तक को पढ़ेंगे और थोड़ी देर शांति मन से विचार करेंगे तो आप यही पाएंगे कि सबसे बुरा मैं था, मेरी वजह से ही रिश्तों में दरार आई है.. तो दोस्त अभी कुछ नहीं बिगड़ा है। पता नहीं जिंदगी दोबारा मिले या न मिले सबको माफ कीजिए और सबसे माफी मांगिए और साथ ही खुद को भी माफ कीजिए और रिश्तों में आई दरार को पाटने का अपना एकमात्र लक्ष्य बनाइए, यकीन मानिए जब आप रिश्तों की दूरियों को पाट देंगे तो जिंदगी जीने का मजा ही कुछ और होगा।

सलीके से जिंदगी जीने का और रिश्तों को संजोकर रखने और रिश्तों में दरार आने से बचाने में आपकी मदद जेलर ए.के. सिंह द्वारा लिखित पुस्तक ‘रिश्तों में दरार क्यों?’ 100 फीसदी सहायक होगी। पुस्तक में मानव जीवन से जुड़ी बहुत ही अच्छी अच्छी बातें लिखीं गईं हैं। किताब की सारी बातों को एक स्टोरी में समाहित करना बेहद ही मुश्किल है।

नोट :  जल्द ही हमारी टीम जेलर ए.के. सिंह से पुस्तक ‘रिश्तों में दरार क्यों?’ पर और अधिक प्रकाश डालेगी।

Avatar
ए. के. शुक्लाhttps://www.khabar4india.com
एके शुक्ला लगभग 5 वर्षों से मीडिया में सक्रिय हैं और खबर4इंडिया, खबर4यूपी के फाउंडर और संपादक हैं। शुक्ला कई समाचार चैनलों में विभिन्न पदों पर काम कर चुके हैं। शुक्ला बेखौफ और परिणाम की चिंता किए बिना जन सरोकार से जुड़ी पत्रकारिता करते रहे हैं। खबर4इंडिया का व्हाट्सएप ग्रुप जॉइन करने हेतु दिए गए लिंक का इस्तेमाल करें https://chat.whatsapp.com/BMNjNQpHZveBAPiyqwQIAO इस समाचार से जुड़े शिकायत एवं सुझाव हेतु मो. न. 9990486338 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में व्यापार बन्धु की बैठक हुई आयोजित।

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में व्यापार बन्धु की बैठक हुई आयोजित। सुलतानपुर 27 सितम्बर/जिलाधिकारी रवीश गुप्ता की अध्यक्षता में...

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में उद्योग बन्धु की बैठक हुई सम्पन्न।

जिलाधिकारी की अध्यक्षता में उद्योग बन्धु की बैठक हुई सम्पन्न। सुलतानपुर 27 सितम्बर/जिलाधिकारी रवीश गुप्ता की अध्यक्षता में...

डीएम की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री फसल बीमा एवं किसान क्रेडिट कार्ड योजना की समीक्षा बैठक हुई आयोजित।

डीएम की अध्यक्षता में प्रधानमंत्री फसल बीमा एवं किसान क्रेडिट कार्ड योजना की समीक्षा बैठक हुई आयोजित। सुलतानपुर 27 सितम्बर/जिलाधिकारी रवीश गुप्ता की अध्यक्षता में...

सुल्तानपुर-शातिर बदमाश जगनारायण उर्फ जग्गा की एक करोड़ 30 लाख की संपत्ति हुई कुर्क।

सुल्तानपुर-शातिर बदमाश जगनारायण उर्फ जग्गा की एक करोड़ 30 लाख की संपत्ति हुई कुर्क। लूट एवं हत्या के दर्जन भर से अधिक मुकदमे रहे...