Sunday, April 18, 2021
Tel: 9990486338
Home विशेष बाल दिवस विशेष: चाचा जी! 'दोगली मीडिया' इंटर्नशिप के नाम पर ‘चिल्ड्रेंस’...

बाल दिवस विशेष: चाचा जी! ‘दोगली मीडिया’ इंटर्नशिप के नाम पर ‘चिल्ड्रेंस’ का करती है शोषण

एके शुक्ला की कलम से

आज यानि 14 नवंबर को बाल दिवस है। बाल यानि बच्चों का दिन और बच्चे उसे कहते हैं जिसके अंदर सोचने समझने की छमता कम विकसित हो। कुछ जगह बच्चों को निखारने का काम किया जाता है तो कुछ जगहों पर उनका शोषण किया जाता है।

ऐसे ही कुछ जगहों में शामिल है मीडिया इंडस्ट्री और खासकर टीवी न्यूज चैनल्स। यहां पर पत्रकार बनने के बड़े-बड़े सपने लेकर निकलने वाले युवाओं का शोषण किया जाता है। वैसे ये मीडिया की दुनिया में ‘बाल’ यानि बच्चे ही रहते है। तो इन बच्चों को आगे बढ़ाने की बजाय इनका इतना शोषण किया जाता है कि इनमें से बच्चों को ट्रेनी बनने के लिए भी कम से कम 1-1 साल मुफ्त में काम करना पड़ता है।

जी हां! मीडिया जगत की सच्चाई कुछ इसी तरह ही कड़वी है। यहां कोई किसी का सगा नहीं सब एक दूसरे की कुर्सी हथियाने के लिए मौका ढूंढते रहते हैं और जैसे ही मौका मिलता है वह सारी बातें भूलकर,उन एहसानों को भूलकर सामने वाले की छाती पर ऐसे चढ़ जाते हैं जैसे मानों वह उनका निजी शत्रु हो। यहां बड़ी मुसीबत से पत्रकारिता की डिग्री हासिल करने वाले बच्चों को इंटर्नशिप का मौका मिलता है और यही से शुरू होती है उनके नामसझी का फायदा उठाने और उनके शोषण करने का बुरा दौर।

इंटर्नशिप कर रहे बच्चों से ऐसे काम कराया जाता है जैसे कि वह बंधुआ मजदूर हों। सुबह 7 बजे की शिफ्ट लगा दी जाती है और 8-8 घंटों से भी ज्यादा काम कराया जाता है। बीच बीच में उन्हें ‘पत्रकारिता छोड दो, ये तुम्हारे बस की नहीं है, किसने तुम्हे पत्रकारिता की डिग्री लेने को कहा, किस मूर्ख संस्थान से डिग्री ली है तुमने, तुम्हारे शिक्षकों ने तुम्हे क्या सिखाया है?’ जैसे ताने मिलते रहते हैं। और ये ताने वह मारता है जो साला खुद पत्रकारिता छोड़कर दलाली कर रहा है और एक सवाल भी अपने विवेक से सामने वाले से नहीं पूछ सकता।

कुल मिलाकर इस दौरान अगर महिला ट्रेनी है तो सीनियर महोदय उसे लाइन मारते मारते और सपने दिखाते दिखाते कि उसका भविष्य वह अच्छा बना देंगे.. उसे अपने बेडरूम तक ले आते हैं और फिर सारे सपने एक ही बार रौंद कर उस प्रशिक्ष को चलता करते हैं। ऐसे शारीरिक शोषण की कई कहानियां मीडिया जगत में सामने आ चुकी हैं। लेकिन ऐसे हरामियों के खिलाफ प्रशासन इसलिए नही कार्रवाई करता क्योंकि वो मादर*** संपादक हैं। मीडिया कंपनी के मालिक हैं वह पुलिस के खिलाफ खबर रन कर देंगे तो उनका तबादला हो जाएगा और उस महिला प्रशिक्षु की इज्जत से समझौता करने को मजबूर हो जाते हैं।

अब बात करते हैं मीडिया के ‘बच्चों’ के वेतन की। तो जनाब 1 साल तक मुफ्त में काम कराया जाता है उसके बाद उन्हें ट्रेनी बनाया जाता है। ट्रैनी के क्रम में उहें 10,000/-(दस हजार रुपए मात्र) वेतन दिया जाता है। अगर इस बीच प्रशिक्षु कहीं और ज्वाइन करता है अपना फर्जी पोस्ट बताकर तो उसका वेतन 20-25-30 हजार या और भी हो सकता है लेकिन अगर वह सच बताकर जाता है तो उसे बामुश्किल 15 हजार ही वेतन मिलेगा।

कुल मिलाकर मीडिया के ‘बच्चों’ का इंटर्नशिप के नाम पर जमकर शोषण किया जाता है। बच्चे अपने खिलाफ हो रहे अन्याय के खिलाफ आवाज भी नहीं उठा पाते। वह कहावत है ना ‘कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है’ इस कहावत का मीडिया इंडस्ट्री में इतना दुरुपयोग किया जाता है कि कभी कभी बहुत कुछ बच्चों को खोना पड़ जाता है। बदले में उनमें से कुछ को ही अच्छा भविष्य मिल पाता है लेकिन कड़वी सच्चाई यही है कि इस इंडस्ट्री में खासकर महिलाओं को ‘बालात्कार’ का शिकार होना पड़ता है।

यहां बालात्कार का मतलब सिर्फ शारीरिक शोषण से नहीं है बल्कि हर खूबसूरत महिला/एंकर को साले चिरकुट टाइप के लोग घूरते ही रहते हैं और उनका अपनी आंखों से ही ‘बालात्कार’ करते रहते हैं। तो ये है आधुनिक दोगली मीडिया का हाल। यानि वही इस दोगली मीडिया में अपना भविष्य चमका सकता है जो मीठी – मीठी बातें बोले, झूठ बोले और चाटुकारिता करे।

अगर आपको लगता है कि आप सच बोलते हैं और वह भी कड़वा सच और आपका भविष्य अच्छा होगा तो आप गलत हैं। यहां कड़वा सच बोलने वाले को पागल समझा जाता है। उदाहरण के तौर पर अजीत अंजुम (इंडिया टीवी), पुण्य प्रसून वाजपेयी (आजतक-एबीपी न्यूज) जैसे शीर्ष क्रम के पत्रकारों को सच बोलने की कीमत चुकानी पड़ी है।

Avatar
ए. के. शुक्लाhttps://www.khabar4india.com
एके शुक्ला लगभग 5 वर्षों से मीडिया में सक्रिय हैं और खबर4इंडिया, खबर4यूपी और भड़ास4नेता के फाउंडर और संपादक हैं। शुक्ला कई समाचार चैनलों में विभिन्न पदों पर काम कर चुके हैं। शुक्ला बेखौफ और परिणाम की चिंता किए बिना जन सरोकार से जुड़ी पत्रकारिता करते रहे हैं। खबर4इंडिया का व्हाट्सएप ग्रुप जॉइन करने हेतु दिए गए लिंक का इस्तेमाल करें https://chat.whatsapp.com/BMNjNQpHZveBAPiyqwQIAO इस समाचार से जुड़े शिकायत एवं सुझाव हेतु मो. न. 9990486338 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सुल्तानपुर: लोग साथ दें, वादा नही विकास करूंगा- बुद्धिराम गौतम (जिला पंचायत प्रत्याशी वार्ड नं. 10)

सुल्तानपुर: पंचायत चुनाव के लिए 19 अप्रैल को मतदान होंगे। लेकिन अंतिम समय तक सभी प्रत्याशी जी जान लगा रहे हैं। इसी क्रम में...

सुल्तानपुर-पंचायत चुनाव में खलल डालने की कोशिश हुई नाकाम , पुलिस ने प्रत्याशी पति के पास से अवैध शराब और असलहे किए बरामद

* पंचायत चुनाव में खलल डालने की प्रत्याशी पति कि हसरत रह गयी अधूरी, कुड़वार एसओ ने सूचना पर छापेमारी कर हिरासत में मौके...

फेक एम्बुलेंस प्रकरण: 48 घंटे की पुलिस रिमांड पर मुख्तार अंसारी का गुर्गा राजनाथ

लखनऊ/बाराबंकी। एंबुलेंस प्रकरण में जिला कारागार में निरुद्ध मुख्तार अंसारी के गुर्गे राजनाथ को पुलिस ने 48 घंटे की रिमांड पर लिया है। सुबह...

रामपुर खास में विकास के साथ मजबूत रहेगा अमन-चैन: प्रमोद तिवारी

प्रतापगढ़: विकास और तरक्की तथा अमन और चैन की मजबूती ही रामपुर खास को प्रदेश में आदर्श क्षेत्र का दर्जा प्रदान किये हुए है।...