Sunday, September 20, 2020
Tel: 9990486338
Home देश कभी भी निलंबित हो सकता है भ्रष्ट IPS हिमांशु कुमार

कभी भी निलंबित हो सकता है भ्रष्ट IPS हिमांशु कुमार

लखनऊ: पत्रकारों को फर्जी मुकदमें में अपने निजी हित में फंसाने वाला आईपीएस अफसर और सुल्तानपुर के एसपी रह चुके हिमांशु कुमार के पापों का घड़ा अब लगभग भर चुका है। इन जनाब से पहले एसपी का पद छीना गया और अब जहां पर तैनात हैं वह पद भी जल्द ही छिनने वाला है। दरअसल, अब इन जनाब का निलंबन होना तय माना जा रहा है। इनके साथ साथ आईपीएस आजयपाल शर्मा के लिए भी तकलीफें बढ़ने के आसार हैं औऱ माना जा रहा है कि वह भी निलंबित होने की कगार पर हैं।

  • निलंबित हो सकते हैं उत्तर प्रदेश के 2 और आईपीएस अफसर
  • अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार पर लटकी सस्पेंशन की तलवार
  • विजिलेंस रिपोर्ट में दोनों अफसर पाए गए दोषी
  • पोस्टिंग पाने के लिए पैसों के लेन-देन से जुड़े व्हाट्सएप चैट और दो ऑडियो कॉल मिली थी
  • विजिलेंस ने शासन को भेजी अपनी रिपोर्ट में माना मनचाही पोस्टिंग में पैसे के लेनदेन की हुई कोशिश
  • विजिलेंस ने जांच में सामने आई ऑडियो रिकॉर्डिंग के लिए अजय पाल शर्मा के वॉयस सैंपल की बताई जरूरत
  • अजय पाल शर्मा के वॉइस सैंपल लेने के लिए एफआईआर  होगी जरूरी
  • पहले हुई वॉइस सेंपलिंग में आरोपी चंदन राय की आवाज की हुई थी जांच, अजय पाल शर्मा की नहीं
  • शासन ने समझी अजय पाल शर्मा के वॉयस सेंपलिंग कराने की जरूरत तो दर्ज होगी अजय पाल शर्मा पर एफआईआर
  • विजिलेंस ने अपनी जांच में दोनों आईपीएस अफसरों की संपत्ति की अलग से जांच की सिफारिश की है

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भ्रष्टाचार और लापरवाही के मामलों में जीरो टॉलरेंस के निर्देशों के तहत कार्रवाई का सिलसिला जारी है. यूपी में भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों से घिरे आईपीएस अधिकारियों पर ग्रहण के बादल लगातार मंडरा रहे हैं. विजिलेंस ने भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों से घिरे आईपीएस अधिकारी डॉ.अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार के विरुद्ध जांच पूरी कर रिपोर्ट शासन को सौंप दी है. सूत्रों की मानें तो जांच में दोनों अधिकारी दोषी पाए गए हैं और उनके विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की सिफारिश सरकार से की गई है. हालांकि अधिकारी जांच की गोपनीयता का हवाला देकर पूरे प्रकरण में चुप्पी साधे हैं.

डॉ.अजय पाल

माना जा रहा है कि दोनों आरोपित आईपीएस अधिकारियों पर जल्द कार्रवाई हो सकती है. डॉ.अजय पाल वर्तमान में पीटीसी उन्नाव और हिमांशु कुमार पीएसी में तैनात हैं. दोनों अफसरों की बेनामी संपित्तयों की भी जानकारी मिली है. शासन ने गौतमबुद्धनगर प्रकरण को बेहद गंभीरता से लिया था.

आईपीएस वैभव कृष्ण

नौ जनवरी 2020 को तत्कालीन गौतमबुद्धनगर एसएसपी वैभव कृष्ण को निलंबित किए जाने के साथ ही तत्कालीन डीजी विजिलेंस हितेश चंद्र अवस्थी की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय विशेष जांच दल (एसआईटी) गठित कर पांचों आईपीएस अधिकारियों पर लगे आरोपों की जांच सौंपी गई थी. एसआईटी ने जांच में मिले साक्ष्यों के आधार पर डॉ.अजय पाल शर्मा व हिमांशु कुमार के विरुद्ध विजिलेंस जांच की सिफारिश की थी.

मार्च में अजय पाल और हिमांशु कुमार के खिलाफ शुरू हुई थी विजिलेंस जांच

शासन के निर्देश पर मार्च 2020 में विजिलेंस ने दोनों आईपीएस अधिकारियों के विरुद्ध अपनी जांच शुरू की थी. सूत्रों का कहना है कि विजिलेंस जांच में दोनों अफसरों की कुछ बेनामी संपित्तयों की भी जानकारी सामने आई है. आपको बता दें कि पूर्व गौतमबुद्धनगर एसएसपी वैभव कृष्ण का एक आपत्तिजनक वीडियो वायरल हुआ था, जिसके बाद उन्हें पद से हटा दिया गया था. इस मामले में वैभव कृष्ण ने डीजीपी को पत्र लिख अजय पाल शर्मा और हिमांशु कुमार पर साजिशन उन्हें फंसाने का आरोप लगाया था. उन्होंने इस पत्र में अजय पाल और हिंमाशु कुमार के विरुद्ध ट्रांसफर-पोस्टिंग के नाम पर धन उगाही का भी आरोप लगाया था. यह लेटर लीक हो गया था, जिसकी जांच अलग चल रही है.

अजय पाल शर्मा पर उनकी कथित पत्नी ने भी लगाए थे गंभीर आरोप

इसके अलावा आईपीएस डॉ.अजय पाल शर्मा पर उनकी कथित पत्नी दीप्ति शर्मा ने उत्पीड़न व झूठे मुकदमों में फंसाने के गंभीर आरोप लगाए थे. मामले में डॉ.अजय पाल के अलावा कुछ अन्य पुलिसकर्मी भी आरोपों के घेरे में हैं.

गाजियाबाद के साहिबाबाद स्थित आस्था अपार्टमेंट में रहने वाली वकील दीप्ति शर्मा उस वक्त दिल्ली हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहीं थीं. उनका दावा था कि 2016 में अजय पाल शर्मा के साथ उनकी शादी गाजियाबाद में रजिस्टर्ड भी हुई थी. दीप्ति का कहना था कि डॉ. अजय पाल से उनके रिश्ते कुछ बातों को लेकर खराब हो गए थे. इस संबंध में उन्होंने महिला आयोग, पुलिस विभाग, हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में शिकायत भी की थी. शिकायती पत्रों के साथ उन्होंने शादी के सबूत भी लगाए थे.

दीप्ति शर्मा ने आरोप लगाया था कि 18 सितंबर 2019 को रामपुर जिले के सिविल लाइन थाने के बृजेश राना, मथुरा और कुछ अन्य लोग घर पहुंचे. घर से लैपटॉप, डीवीआर और अन्य सामान उठा ले गए. इसकी शिकायत उन्होंने डीआईजी रेंज मेरठ से भी की थी. उनके मुताबिक, 2019 में फोन पर डॉ. अजय पाल शर्मा से उनका झगड़ा हुआ था. इसके बाद उन्हें साजिशन गिरफ्तार करवाया गया. दीप्ति का कहना था कि जेल में रहने के दौरान उनके ऊपर बुलंदशहर के सिकंदराबाद थाना, गाजियाबाद के सिहानी गेट, रामपुर के सिविल लाइन समेत कई जगह धोखाधड़ी, आईटी ऐक्ट समेत कई केस दर्ज किए गए थे.

महिला ने अजय पाल शर्मा पर झूठे केस में फंसाने का आरोप लगाया था

उन्होंने अजय पाल शर्मा पर आरोप लगाए थे कि उन पर अजय पाल शर्मा के इशारे पर झूठे केस लादे गए, उन्हें परेशान करने के लिए. ताकि दीप्ति डॉ. अजय पाल शर्मा के खिलाफ बयान न दे सकें. दीप्ति ने ये भी आरोप लगाए थे कि उनके मोबाइल डॉ. अजय पाल के परिचित चंदन राय के पास पहुंचा दिए गए थे. मोबाइल से साक्ष्य मिटा दिए गए. लिहाजा पीड़िता ने इस पूरे मामले की जांच के लिए विशेष सचिव गृह डॉ. अनिल कुमार सिंह से गुहार लगाई थी. विशेष सचिव गृह के निर्देश पर हजरतगंज पुलिस ने आईपीएस डॉ. अजय पाल शर्मा, चंदन राय, उपनिरीक्षक विजय यादव, दीप्ति को गिरफ्तार करने वाली अज्ञात टीम व अन्य के खिलाफ गबन, आपराधिक साजिश और साक्ष्य मिटाने की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज की थी.

Avatar
ए. के. शुक्लाhttp://www.khabar4india.com
एके शुक्ला लगभग 5 वर्षों से मीडिया में सक्रिय हैं और खबर4इंडिया, खबर4यूपी और भड़ास4नेता के फाउंडर और संपादक हैं। शुक्ला कई समाचार चैनलों में विभिन्न पदों पर काम कर चुके हैं। शुक्ला बेखौफ और परिणाम की चिंता किए बिना जन सरोकार से जुड़ी पत्रकारिता करते रहे हैं। इस समाचार से जुड़े शिकायत एवं सुझाव हेतु मो. न. 9990486338 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अनुराग कश्यप, पायल घोष जैसों को दो लगाओ और हवालात में डालो: IPS अमिताभ ठाकुर

लखनऊ: अपनी बेबाकी के लिए मशहूर आईपीएस अमिताभ ठाकुर का मानना है कि सुशांत केस और खासकर रिया का ड्रग्स कनेक्शन में नाम आने...

सुल्तानपुर–जिलाधिकारी ने पंचायत भवन के निर्माण का किया शिलान्यास

*प्रेस विज्ञप्ति*   सुलतानपुर 20 सितम्बर/जिलाधिकारी रवीश गुप्ता द्वारा शनिवार 19 सितम्बर को विकास खण्ड दूबेपुर के ग्राम पंचायत हरखीदौलतपुर में मनरेगा योजनान्तर्गत/चतुर्थ राज्य वित्त आयोग...

अमेठी: गौरीगंज थाने की पुलिस ने 2 वांछितों को किया गिरफ्तार, काफी समय से चल रहे थे फरार

एसपी तिवारी की रिपोर्ट अमेठी: थाना गौरीगंज पुलिस द्वारा 02 नफर वांछित अभियुक्त गिरफ्तार । पुलिस अधीक्षक अमेठी श्री दिनेश सिंह के निर्देशन, अपर पुलिस अधीक्षक श्री...

अमेठी: विभिन्न थाना क्षेत्रों से 6 शराब तस्कर गिरफ्तार, 60 लीटर अवैध शराब बरामद

अमेठी से एसपी तिवारी की रिपोर्ट पुलिस अधीक्षक अमेठी श्री दिनेश सिंह के निर्देशन में, अपर पुलिस अधीक्षक श्री दयाराम सरोज के पर्यवेक्षण व क्षेत्राधिकारीगण...
%d bloggers like this: