Saturday, July 4, 2020
Tel: 9990486338
Home देश छत्तीसगढ़: वाह! कलेक्टर ने कैदी की बेटी का कराया अच्छे स्कूल में...

छत्तीसगढ़: वाह! कलेक्टर ने कैदी की बेटी का कराया अच्छे स्कूल में एडमिशन

#संवेदनशील_अधिकारी

जेल में 6 साल से बेगुनाही की सजा काट रही खुशी का हुआ इंटरनेशनल स्कूल में एडमिशन, कलेक्टर के साथ स्कूल पहुँची खुशी

बिलासपुर (छग) जब एक पिता अपनी बेटी को खुद से विदा करता है तब दोनों तरफ से सिर्फ आंसू ही बहते हैं। आज बिलासपुर केंद्रीय जेल में ऐसा ही नजारा देखने को मिला। जेल में बंद एक सजायफ्ता कैदी अपनी 6 साल की बेटी खुशी( बदला हुआ नाम) से लिपटकर खूब रोया। वजह बेहद खास थी। आज से उसकी बेटी जेल की सलाखों के बजाय बड़े स्कूल के हॉस्टल में रहने जा रही थी। करीब एक माह पहले जेल निरीक्षण के दौरान कलेक्टर डॉ संजय अलंग की नजर महिला कैदियों के साथ बैठी खुशी पर गयी थी।

तभी वे उससे वादा करके आये थे कि उसका दाखिला किसी बड़े स्कूल में करायेंगे। आज कलेक्टर डॉ संजय अलंग खुशी को अपनी कार में बैठाकर केंद्रीय जेल से स्कूल तक खुद छोड़ने गये। कार से उतरकर खुशी एकटक स्कूल को देखती रही। खुशी कलेक्टर की उंगली पकड़कर स्कूल के अंदर तक गयी। एक हाथ में बिस्किट और दूसरे में चॉकलेट लिये वह स्कूल जाने के लिये सुबह से ही तैयार हो गयी थी। आमतौर पर स्कूल जाने के पहले दिन बच्चे रोते हैं। लेकिन खुशी आज बेहद खुश थी। क्योंकि जेल की सलाखों में बेगुनाही की सजा काट रही खुशी आज आजाद हो रही थी।

कलेक्टर की पहल पर शहर के जैन इंटरनेशनल स्कूल ने खुशी को अपने स्कूल में एडमिशन दिया। वह स्कूल के हॉस्टल में ही रहेगी। खुशी के लिये विशेष केयर टेकर का भी इंतजाम किया गया है। स्कूल संचालक श्री अशोक अग्रवाल ने कहा है कि खुशी की पढ़ाई और हॉस्टल का खर्चा स्कूल प्रबंधन ही उठायेगा। खुशी को स्कूल छोड़ने जेल अधीक्षक एस एस तिग्गा भी गये। आपको बता दें कि खुशी के पिता केंद्रीय जेल बिलासपुर में एक अपराध में सजायफ्ता कैदी हैं।

जिसने पांच साल की सजा काट ली है, पांच साल और जेल में रहना है। खुशी जब पंद्रह दिन की थी तभी उसकी मां की मौत पीलिया से हो गयी थी। पालन पोषण के लिये घर में कोई नहीं था। इसलिये उसे जेल में ही पिता के पास रहना पड़ रहा था। जब वह बड़ी होने लगी तो उसकी परवरिश का जिम्मा महिला कैदियों को दे दिया गया। वह जेल के अंदर संचालित प्ले स्कूल में पढ़ रही थी। लेकिन खुशी जेल की आवोहवा से आजाद होना चाहती थी। संयोग से एक दिन कलेक्टर जेल का निरीक्षण करने पहुंचे। उन्होंने महिला बैरक में देखा कि महिला कैदियों के साथ एक छोटी सी बच्ची बैठी हुयी है। बच्ची से पूछने पर उसने बताया कि जेल से बाहर आना चाहती है। किसी बड़े स्कूल में पढ़ने का उसका मन है। बच्ची की बात कलेक्टर को भावुक कर गयी। उन्होंने तुरंत शहर के स्कूल संचालकों से बात की और जैन इंटरनेशनल स्कूल के संचालक खुशी को एडमिशन देने को तैयार हो गये।

कलेक्टर की पहल पर जेल में रह रहे 17 अन्य बच्चों को भी जेल से बाहर स्कूल में एडमिशन की प्रक्रिया शुरु कर दी गयी ।

समाचार साभार: फेसबुक

श्याम जी त्रिपाठी 'रामजाने'
श्याम जी त्रिपाठी 'रामजाने'http://www.khabar4india.com
श्याम जी त्रिपाठी 'रामजाने' खबर4इंडिया के सुल्तानपुर जनपद के एडिशनल ब्यूरो चीफ हैं। आपके पास एक दशक से ज्यादा का अनुभव पत्रकारिता के क्षेत्र में है। आप बेखौफ और जनसरोकारिता से जुड़ी पत्रकारिता करते हैं। समाचार से जुड़े शिकायत एवं सुझाव हेतु 9990486338 पर संपर्क किया जा सकता है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

रायबरेली: स्थानीय प्रशासन व वन विभाग की मिलीभगत से पेड़ो की कटान चरम पर

रायबरेली से महताब अहमद की रिपोर्ट भारत सरकार एक ओर जहां धरती को हरा भरा रखने के लिए एकं जुलाई से वरक्षारोपन का अभियान चलाकर...

सुल्तानपुर: सरैया बाजार में नवजात बच्ची सड़क किनारे पड़ी मिली

सुल्तानपुर: सरैया बाजार में नवजात बच्ची सड़क किनारे पड़ी मिली ✍️ रिपोर्ट श्याम जी त्रिपाठी रामजाने आज सुबह कादीपुर दोस्तपुर रोड पर सरैया मुस्तफाबाद के समीप...

सुल्तानपुर: डीज़ल पेट्रोल की बढ़ी क़ीमत पर धरना प्रदर्शन कर सौपा ज्ञापन

सुल्तानपुर: डीज़ल पेट्रोल की बढ़ी क़ीमत पर धरना प्रदर्शन कर सौपा ज्ञापन ✍️ रिपोर्ट श्याम जी त्रिपाठी रामजाने सुल्तानपुर - जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष...

सुल्तानपुर: वर्षों से जिले में चल रहा मीटर घोटाला, गहरी है जड़े

सुल्तानपुर: वर्षों से जिले में चल रहा मीटर घोटाला, गहरी है जड़े श्याम जी त्रिपाठी रामजाने की रिपोर्ट सुुुलतानपुर बिजली विभाग ने मीटर घोटाले...
%d bloggers like this: