Sunday, April 18, 2021
Tel: 9990486338
Home देश कोरोना वायरस: मलेरिया की दवा से कोई लाभ नहीं, महामारी के साथ...

कोरोना वायरस: मलेरिया की दवा से कोई लाभ नहीं, महामारी के साथ जीना सीखना होगा सबको-रवीश कुमार

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन, मलेरिया की दवा है। इस दवा को लेकर शुरू में काफी उत्साह दिखाया गया है। लेकिन अब कोविड-19 के संकट के करीब साढ़े चार महीने बीत जाने के बाद इस दवा को लेकर उत्साह ठंडा पड़ गया है। ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ने चीन और फ्रांस में हुए शोध के नतीजों पर एक लेख छापा है जिसमें पाया गया है कि इस दवा को देने से कोविड-19 के मरीज़ों में ख़ास सुधार नहीं होता है। उन मरीज़ों की तुलना में जिन्हें यह दवा नहीं दी जाती है।

अमरीका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने अप्रैल के शुरू में कहा था कि यह दवा ठीक कर देगी। उस वक्त भी अमरीका के बड़े वैज्ञानिकों और डॉक्टरों ने सवाल उठाए थे। मगर इसी बहाने कुछ दिनों तक चर्चा चल पड़ी। कई देश इस दवा का आयात करने लगे जिनमें से अमरीका भी है। भारत ने निर्यात किया। इसे अपनी कूटनीतिक सफलता के रूप में देखा। ट्रंप की मूर्खता का अंदाज़ा सभी को था लेकिन महामारी ऐसी है कि हर कोई कुछ दिनों तक भरोसा तो करना ही चाहता है।

अमरीका के फूड एंड ड्रग्स कंट्रोलर FDA ने चेतावनी दी थी कि इस दवा को न तो अस्पताल में दिया जाए और न ही क्लिनिकल ट्रायल में इस्तमाल हो। क्योंकि इससे ह्रदय के धड़कनों की तारतम्यता गड़बड़ा जाती है। अमरीका में अभी भी इसी दवा पर अध्ययन चल रहा है। दूसरे देशों में भी चल रहा है। अमरीका के NIH यानि नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ भी प्रयोग कर रहा है कि क्या दूसरी दवाओं के साथ इसे देने से कोविड-19 के प्रसार को रोका जा सकता है।

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल ने छापा है कि चीन और फ्रांस के प्रयोगों से कुछ ख़ास नहीं निकला है। कोरोना की महामारी में यह दवा कारगर नहीं है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉ माइक रेयान ने कहा है कि कोरोना के इस विषाणु के खत्म होने को लेकर जिनते दावे किये जा रहे हैं, उनसे सतर्क रहने की ज़रूरत है। हो सकता है अब यह वायरस हमारे जीवन का हिस्सा हो जाए। जैसे HIV कहां गया। अगर टीका मिल भी जाता है तब भी इसे नियंत्रित करने के लिए व्यापक अभियान की ज़रूरत होगी। ऐसा भी नहीं है कि टीका मिला और सबके घर तक पहुंच गया।

इस वक्त टीका खोजने पर 100 से अधिक प्रयोग चल रहे हैं। डॉ रेयान का कहाना है कि ऐसे बुहुत से टीके बने लेकिन बीमारियां खत्म नहीं हुईं। आज तक चेचक होता ही रहता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की इस बात का यह भी मतलब है कि हम इस महामारी के दूर होने की खुशफहमी ने पालें। जीवन की संस्कृति को बदल लें। सतर्क करें। तभी हम इसके फैलने को नियंत्रित कर सकते हैं।

Avatar
ए. के. शुक्लाhttps://www.khabar4india.com
एके शुक्ला लगभग 5 वर्षों से मीडिया में सक्रिय हैं और खबर4इंडिया, खबर4यूपी और भड़ास4नेता के फाउंडर और संपादक हैं। शुक्ला कई समाचार चैनलों में विभिन्न पदों पर काम कर चुके हैं। शुक्ला बेखौफ और परिणाम की चिंता किए बिना जन सरोकार से जुड़ी पत्रकारिता करते रहे हैं। खबर4इंडिया का व्हाट्सएप ग्रुप जॉइन करने हेतु दिए गए लिंक का इस्तेमाल करें https://chat.whatsapp.com/BMNjNQpHZveBAPiyqwQIAO इस समाचार से जुड़े शिकायत एवं सुझाव हेतु मो. न. 9990486338 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सुल्तानपुर-बढ़ते संक्रमण में गोमती मित्रों ने रखा स्वच्छता का ध्यान फिर किया श्रमदान-विनोद सेठ

बढ़ते संक्रमण में गोमती मित्रों ने रखा स्वच्छता का ध्यान,किया श्रमदान--विनोद सेठ   यूं तो रविवार गोमती मित्र मंडल परिवार के साप्ताहिक श्रमदान का दिन होता...

सुल्तानपुर: लोग साथ दें, वादा नही विकास करूंगा- बुद्धिराम गौतम (जिला पंचायत प्रत्याशी वार्ड नं. 10)

सुल्तानपुर: पंचायत चुनाव के लिए 19 अप्रैल को मतदान होंगे। लेकिन अंतिम समय तक सभी प्रत्याशी जी जान लगा रहे हैं। इसी क्रम में...

सुल्तानपुर-पंचायत चुनाव में खलल डालने की कोशिश हुई नाकाम , पुलिस ने प्रत्याशी पति के पास से अवैध शराब और असलहे किए बरामद

* पंचायत चुनाव में खलल डालने की प्रत्याशी पति कि हसरत रह गयी अधूरी, कुड़वार एसओ ने सूचना पर छापेमारी कर हिरासत में मौके...

फेक एम्बुलेंस प्रकरण: 48 घंटे की पुलिस रिमांड पर मुख्तार अंसारी का गुर्गा राजनाथ

लखनऊ/बाराबंकी। एंबुलेंस प्रकरण में जिला कारागार में निरुद्ध मुख्तार अंसारी के गुर्गे राजनाथ को पुलिस ने 48 घंटे की रिमांड पर लिया है। सुबह...